Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

1 min
382


ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

तुझे कौनसा मैं मोड़ दूँ।


ज़िद करूँ या छोड़ दूँ

राह तकूँ या चल पडूँ

सवाल करूँ या जवाब बनूँ

अब हार जाऊँ या फ़िर लड़ूँ।


ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

तुझे कौनसा मैं मोड़ दूँ।


संतुष्ट रहूँ या माँग लूँ

सब्र करूँ या छीन लूँ

भरोसा करूँ या परख लूँ

साथ ढूंडू या चल पडूँ।


ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

तुझे कौनसा मैं मोड़ दूँ।


दुनिया से डरूँ या सबसे लड़ूँ

रोती रहुँ या हँस पडूँ

ऐ ज़िन्दगी मुझे तू बता

तुझे कौनसा मैं मोड़ दूँ।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Drama