Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

Kavi Suneel Kumar

Drama Inspirational Tragedy


4.9  

Kavi Suneel Kumar

Drama Inspirational Tragedy


सत्य हूं मैं

सत्य हूं मैं

1 min 22.2K 1 min 22.2K

मैं अकेला चल रहा हूं

भीड़ के संसार में

है नहीं कोई खेवैया,

नाव है मझधार में


क्या करूं मैं ?

किससे पूछूं ?

कोई बतलाए ज़रा !

हर किसी ने मुंह मोड़ा

क्या हूं मैं इतना बुरा ?


खो चुका हूं

अब नहीं मेरा चलन व्यवहार में

सत्य हूं मैं,

बिक चुका हूं झूठ के बाज़ार में ।

मैं अकेला चल रहा हूं...


मैं हूं कड़वा,

मैं हूं तीखा,

मैं हूं थोड़ा अटपटा - सा

लोगों ने त्यागा मुझे

चाहा कुछ बस चटपटा - सा


था कभी मेरा बसेरा

हर जगह, हर पंत में

अब नहीं मिलता कहीं मैं

किसी भी संत में

न कहानी

न किताबों

न किसी अख़बार में

सत्य हूं मैं,

बिक चुका हूं झूठ के बाज़ार में ।

मैं अकेला चल रहा हूं...


मैं जिधर जाता

उधर ही पोल खुल जाती सभी की

मुझको अपनाया जो होता

जीत हो जाती कभी की

न मैं शासन,

न प्रशासन,

न किसी भी न्याय में

मुझको पाओगे कहां तुम

अब किसी अभिप्राय में !


झूठे वादों से बनी,

इस मूर्त - सी सरकार में

सत्य हूं मैं,

बिक चुका हूं झूठ के बाज़ार में ।

मैं अकेला चल रहा हूं...



Rate this content
Log in

More hindi poem from Kavi Suneel Kumar

Similar hindi poem from Drama