Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Kumar Ritu Raj

Tragedy Others


3  

Kumar Ritu Raj

Tragedy Others


मैंने छोड़ दिया , खुद को सलाह देना

मैंने छोड़ दिया , खुद को सलाह देना

1 min 186 1 min 186

मैंने छोड़ दिया, खुद को सलाह देना !

जब मेरे रूह ने ही मुझसे सवाल किया . . .

क्या अधिकार है तेरा मेरे मन पे

क्यों बदलू में इस डगर को . . .


मैंने छोड़ दिया, खुद को सलाह देना !

जब टूटी कुर्सी ने कुछ दिखाना चाहा

जब मेरे घाव ने मुझे रुलाना चाहा . . .

जब रो-रोकर तकिए गीले हो गए

जब आधी रात तक ये मंजर चला . . .


मैंने छोड़ दिया, खुद को सलाह देना !

जब मेरी सबसे अच्छी आदतों पर सवाल हुए

कई-कई घंटों तक बवाल हुए . . .

अंततः ये मन हार गए . . .

जब मुझे अपने ही मार गए . . .

मैंने, छोड़ दिया, खुद को सलाह देना. . .


Rate this content
Log in

More hindi poem from Kumar Ritu Raj

Similar hindi poem from Tragedy