Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Dheeraj Srivastava

Tragedy


5.0  

Dheeraj Srivastava

Tragedy


जाने कितनी बार ठगा

जाने कितनी बार ठगा

2 mins 639 2 mins 639

मन के भोलेपन को तुमने

जाने कितनी बार ठगा।


जो कुछ भी था मेरा अपना

कर डाला सब तुमको अर्पण !

देख तुम्हारे छल प्रपंच को,

जी भर रोया व्यथित समर्पण !

स्वप्न दिखाकर केवल झूठे

सच्चा पावन प्यार ठगा।


मन के भोलेपन को तुमने

जाने कितनी बार ठगा।


छाती से चिपकाकर सुधियाँ

पीड़ाओं ने लोरी गायी !

सहलाया दे- देकर थपकी

पर जाने क्यों नींद न आयी !

कर्तव्यों की अनदेखी कर

मनचाहा अधिकार ठगा।


मन के भोलेपन को तुमने

जाने कितनी बार ठगा।


निष्ठुरता ने भला प्रेम के

गीत सुकोमल कब हैं गाये !

पाषाणों ने कब लहरों की

धड़कन पर हैं कान लगाये !

ठगा सिन्धु सी गहराई को

नभ जैसा विस्तार ठगा।


मन के भोलेपन को तुमने

जाने कितनी बार ठगा।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dheeraj Srivastava

Similar hindi poem from Tragedy