Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Manju Saini

Tragedy

5  

Manju Saini

Tragedy

शिक्षक की दशा

शिक्षक की दशा

2 mins
502



आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


अनेको कार्यो में हमे उलझा कर डाल दिया

अपना जो काम था उससे दूर कर दिया गया

बस रिकार्ड बाबू हमे समझो बना कर रख दिया

नई शिक्षा नीति ने शिक्षक को बाबू बना दिया


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


शिक्षक हूँ कहने को बच्चों को पढा नही पाती हूँ

आये दिन कागजो की पूर्ति में अटकाई जाती हूँ

कभी टी सी की लिस्ट हाथ में ले रहा जाती हूँ

नही कुछ तो वर्दी किसकी नही देखने जाती हूँ


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


छुट्टी होने के समय पर ही रोज रोक ली जाती हूँ

अब परिवार के लोगो को कहाँ समय दे पाती हूँ

घर पहुंच कर भी फोन मैसज ही पढ़ती रहती हूँ

कब कौन सा मैसेज जो वही देखती रह जाती हूँ


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


सुबह ही लिस्ट काम की हाथ थमा दी जाती हैं 

अटक उसमे बच्चों पर कब ध्यान दे पाती हूँ

कहने को तो शिक्षिका हूँ कहाँ समय दे पाती हूँ

किसके आधार नही आये लिस्ट बनाती रहती हूँ


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


रोज रोज लिपिक बन मन मसोस रह जाती हूँ

करूँ पर प्रधानाचार्य को फालतू नजर आती हूँ

किसको दुख रोऊँ चहुँओर नजर फिराती रहती हूँ

समय पर काम पूर्ण करूँ खुश कहाँ कर पाती हूँ


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


छात्रों के मातापिता आकर मेरी कमी बता जाते हैं

मीटिंग बुला मुझको अपमानित भी कर जाते हैं हैं

छात्र भी आज मुझको कानून बताने आते हैं

तभी आज हम शिक्षक रोज अपमानित होते हैं


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


लगता हैं अब तो मुझको मैं नही पढ़ाने आई हूँ

कान के बहरों को मै क्या सुनाने बैठ आज गई हूँ

शिक्षण का काम छोड़ बस बेगारी करने आई हूँ

लगता हैं अब तो मुझको मैं नही पढ़ाने आई हूँ


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ


पैसो के लालच में कमजोर छात्र ले लिए जाते हैं

परिणाम न हो ठीकरा शिक्षक पर फोड़ा जाता हैं

छात्रों को मै शिक्षा दूं समय नही छोड़ा जाता हैं

अच्छे संस्कार दे पाऊँ समय दिया नही जाता हैं


आई थी शिक्षिका बनने पर कभी नही बन पाई हूँ

अपने भावी कर्णधारों को शिक्षा नही दे पाई हूँ.


Rate this content
Log in