Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Aman Kumar

Tragedy Children

4  

Aman Kumar

Tragedy Children

युवा मांगे जवाब अब

युवा मांगे जवाब अब

1 min
494


भर्ती निकले तो इम्तहान नहीं, 

परीक्षा हो तो परिणाम नहीं, 

परिणाम हो तो joining का कोई नाम नहीं, 

आखिर क्यों हम युवाओं का सम्मान नहीं।

            

बस करो मजाक अब, 

युवा मांगे हिसाब अब, 

बात करो संवाद करो, 

दो हमारे प्रश्नों का जवाब अब।


क्यों सरकार बनाती ये पंचवर्षीय योजना है, 

किस नये भारत की ये परियोजना है ? 

कैसी ये परीक्षा प्रणाली है? 

हम युवाओं का छीन ली जवानी है।


क्यों पेपर में गलत सवाल करते है ? 

फिर 100-100₹ का व्यापार करते है, 

Rank linst का नहीं कोई प्रावधान करते

Waiting list का नहीं कोई समाधान करते, 

साहब 2-4 हो तो बोले, अरे आप तो जुर्म हजार करते।


जागो सरकार जागो, बस यही कहना है, 

हमारी समस्या को निवारण करना है,

1वर्ष में पूरी प्रक्रिया होना है, 

Private नहीं सरकारी नौकरी लेना है।


युवाओं से कुछ कहना है, 

अब बस और नहीं सहना है, 

बुलंद अपनी आवाज करो, 

आज कुछ ऐसी हुंकार भरो, 

आ जाए कोई सैलाब अब, 

रूकना नहीं, झुकना नहीं, 

अपने हक का करना है हिसाब अब।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy