Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

तख़्त हिंदुस्तान का

तख़्त हिंदुस्तान का

1 min
474


चिंगारी जो तड़प रही है एक शोला बन जाने को

मचल रही है बैचेनों सी तेरी एक सांस पाने को

तूने ही जो बहा पसीना खून को काला कर अपने

इस ज़मीन में घिस रगड़ कर रूखी अंखियों में सपने


तेरी बाजू और गठीले इस मटमैले पूछ बदन से  

जाने देगा अपनी  कोशिश आया इतना इतने जतन से

कुछ सिक्कों की सूट बूट की उस झूठी मुस्कान में

लम्बे काफिले धोती टोपी विलास आलिशान में


इतना ही बस तेरे जी जो नप गया तू पैमानों में

इतनी से में ही तू सिमटा था उड़ा आसमानों में

रूह ने तेरी जो छेड़ी थी तानों में और गानों में

गुम हो गयी हुंकार कहीं लोहे के कारखानों में


तू जो बनता है हलाल मीठी छुरी की धारों का 

क्या पोंछेगा घर के आँसू करके काम मक्कारों का

अभी तुझे भरकर अन्तैची तोल रहा तराजू पर

कहीं भरोसा कहीं ताक़त कहीं इश्क आरज़ू पर


यार बच्चे कच्चे सच्चे पत्नी के अरमानों पर

इन्हें ले जायेंगे हरामी सियासी बूचडखानों पर

समझ न पाता तू फिर से ढोंगी अंधी साज़िश के काम

अजगर कुंडली मार पल रहा ले बाबा गाँधी का नाम


बहुरूपिये तिरछी टोपी धारी इन नक्कालों ने

बैठ शान से शहंशाह बनकर कितने ही कंकालों पे

मिलकर इसने धन्नासेठों और दलालों के संग रचाया 

तेरी माँ की नीलामी कर जयकारा तुझसे करवाया


बांट के कब्ज़ा तेरे तुझ में कौम पे राज चलाये जाये

डस डसकर फिर दांत गढ़ाये ज़ालिम भी इस से शरमाये

लेकिन फिर भी घबराता यह चुन चुन के चिंगारी से

रह रहकर जो दौर बगावत फूटे इस अंगारी से


आज गवाह तू बना है उस चिंगारी मुट्ठी ताल

एक सांस बस एक फूंक भर सबकी भट्टी बने मशाल

खेलेगा फिर तू तेरे वोह साथी नाती बच्चे न्यार

अंगारों की तेज में तेरी प्रियतमा ले ढेरों प्यार


एक से नेक हज़ारों अरबों जलसों में जुलूसों में

नेताजी जो भगत की संगत और जो कहा था रूसो ने

अजगर बन तू क्या बैठेगा कितने सपोले लेगा पाल

हंसिये बरछी औजारों से तेरी अंतड़ी दे निकाल


कितने ही तू माया छल कर नहीं किसी यह काम का

रावण कितना ग्यानी ध्यानी  जपा नाम तोह राम का

दौर ऐ जहां तो है ही गवाह की राज है आवाम का

खबरदार रहना पापियों तख़्त हिंदुस्तान का


                                


Rate this content
Log in