Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Vikramaditya Singh

Others

3  

Vikramaditya Singh

Others

आँसू और मन

आँसू और मन

1 min
385


वह समय सुहावन सा था

इतना सब उनमें घटा था

कुछ हलकी सी स्मृतियों में

वह अजीब से भी पल थे


उन यादों की छाया में

जिसमें मन तिरता जाए

फिर फिर कर इधर उधर यह

कभी सिहरे कभी घबराये


छलनी हो होकर फिर से

क्यों आखिर दुःख को पीता

इन पिछली पहेलियों से

अपना ही चैन तो छिनता


कितने ऐसे मोड़ पर

चाहता नहीं जाना है ये

बीते हुई दुःख को भर

फिर से कंपकपाता है


कुछ ऐसी ही बुनती है

आड़ी तिरछी होकर के

भीतर तक धंस बनती है

यादों के साये में चुपके


हर होंठ की सिहरन जाने

आँखों की झपक भी बूझे

एक बाढ़ लिए हर दिल का

आँसुओं से मन जब उलझे


                      



Rate this content
Log in