Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Naveen Singh

Tragedy Others


3.5  

Naveen Singh

Tragedy Others


कोरोना और 2020

कोरोना और 2020

1 min 161 1 min 161

2020 आया, New Year सबने मनाया

किसी को क्या पता

ये साल अपने साथ 

मौत का सामान लाया।


2020 जब अपने मध्य में आया

कोरोना ने अपना विकराल रूप दिखाया

मरीज़ो की संख्या बढ़ाया

तीज-त्योहारों पर पाबंदियाँ लगाया।


लोगों का रोज़गार छीन लिया

घर और बार छीन लिया।

जिनकी रोज़ी रोटी चलती थी

व्यापार से, उनका व्यापार छीन लिया।


पर 2020 ने बहुत कुछ सिखाया

सोनू सूद जैसे लोगो ने दया दिखाया

और जिन्हें लोग दूसरा भगवान कहते है

उन्होंने किडनी बेच खाया।


अभी भी समय है

अपनी हरकतें सुधारो

घर से बाहर जाते समय मास्क ना उतारो

अपनी तुम्हें न फिकर है, ठीक है

पर किसी और का तो घर ना उजाडो


Vaccine का सोचकर

बरत रहे हो लापरवाही

तुम्हें क्या पता तब तक

निपट लेगी परिवार तुम्हारी।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Naveen Singh

Similar hindi poem from Tragedy