Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

आँचल

आँचल

1 min
183


बंटे माँ बाप भी अब तो

यहाँ दिन और महीने में

कभी जो एक ही आँचल में

माँ सबको सुलाती थी 


सुबह और शाम की भी

बंट गयी है रोटियाँ अब तो

कभी जो रहके खुद भूखे

माँ बच्चों को खिलाती थी


तड़प उठती थी माँ बच्चों को

गर तकलीफ़ होता था

हमारे वास्ते ख़ुशियों के

सब दर्द सह जाती थी


कई रातें वो जागे

जैसे हो बातें कुछ लम्हो की

छुपाके खुद के दर्द को

हमे हँसना सिखाती थी


कभी सोचा नहीं क्या

ख्वाहिशें मेरी भी अपनी है

हमेशा वास्ते बच्चों के

वो सपने सजाती थी


फटी साड़ी फटे जुते

नहीं माँ बाप ने बदले

हमारे वास्ते पढ़ने को माँ

सामान लाती थी


नहीं देखी कभी गर्मी

कभी सर्दी और बारिश को

हमारे सर पे रख आँचल

माँ खुद ही भींग जाती थी


है जागे रात भर सोचे

नहीं जो नींद क्या होती

माँ खुद गीले में सो करके

हमे सूखे में सुलाती थी


करे क़ुर्बान जो बच्चों पे

माँ यूं हँस करके जीवन को

माँ रोती थी मगर फिर

भी दुआएँ दे के जाती थी


तेरे एहसान को कोई

चुका सकता नहीं माँ है

तू वो है जो टूटे घर

को भी जन्नत बनाती


सलामत गर रहे आँचल जो

माँ का

ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ है

शिवम् हँस करके माँ

अपनी सभी दर्द छुपाती थी !!

 

 

 



Rate this content
Log in