preeti k

Abstract

4  

preeti k

Abstract

मेरी सीमा

मेरी सीमा

2 mins
696


एक सीमा तय की है तुमने मेरे बोलने की पर तुम ये भूल गए एक सीमा मेरे सुनने की भी है 

एक सीमा मेरे सहने की बर्दाश्त करने की भी है जिसे भी तुम शोषण करते करते भूल गए 

जो इलज़ाम और सवालात तुमने मुझ से किये है तुम्हारी माँ और बहनो से भी किये गए होंगे वो सब तुम्हारी बेटियों से किये जायेंगे यह समझना भी तुम भूल गए 

रोज तुम मुझे बतलाते हो मुझे अपना काम कैसे करना है एहसास दिलाते हो कि मैं तुम्हारे लिए कितनी नाकारा हूँ 

थाली फ़ेंक तुम मुझे बतलाते हो खाना कैसे बनाना है फर्श पर पानी फेंक के सिखाते हो पोछा कैसे लगाना है 

पर मैं सब कुछ बर्दाश्त करती हों सब कुछ सहती हूँ 

किस बात का डर है यह मुझे जो मुझे बगावत से रोकता है 

तुम जान लो जिस दिन मैंने अपने डर का पता लगाकर इस पर काबू पा लिया 

ये तुम्हारी बनाई हुई सीमाएं नहीं रोक पायेगी मेरी आवाज़ को मेरे आक्रोश को उन नफरतो को जो मेरे सीने में कफ़न हैजिसमे तुम हर रोज इज़ाफ़ा करते ही जाते हो और यह भूल जाते वहां भी एक सीमा है जमा कर रखने कीऔर इस इन्तहा के बाद ना मेँ ना मेरा डर और न ही तुम्हारी सीमाएं रोक पाएंगी उन बेशुमार कड़वे तानो के इन्तेहाई दर्द को जो हर पल तुमने मुझे दिए है उस दिन नयी सीमाएं तय की जाएँगी पर इस बार मेरे लिए नहीं बल्कि तुम्हारे लिए 

तुम्हारी मर्दानगी के लिए यह सब नाक़ाबिले बर्दाश्त होगा तुम्हारा गुरूर चकनाचूर हो जायेगा 

उस दिन से एक नया इतिहास लिखा जायेगा और इस दौर को तुम्हारे नुमाइंदे नहीं बल्कि हम खुद लिखेंगे 

तब जीत सिर्फ हमारी होगी।


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Abstract