minni mishra

Abstract


4  

minni mishra

Abstract


कौशिकी

कौशिकी

3 mins 22 3 mins 22

      


   

 पति ने शाप देकर मुझे मानव से नदी बना दिया ! क्या कसूर था मेरा ? यही न कि मैं अन्य लड़कियों की अपेक्षा अधिक चंचल थी ! लडकियों का अधिक चंचल होना कोई गुनाह होता है क्या ? पिता के घर में सबकी दुलारी चहकती, फुदकती मैं ‘सत्यवती’ के नाम से जानी जाती थी ।परन्तु ससुराल आकर मैं चंचल होने के कारण छिनाल कहलाने लगी । यहाँ कोई मुझे पसंद नहीं करता !इसलिए मैं हमेशा दुखी रहती !

धीरे-धीरे मैं पति के कोपभाजन का शिकार होती चली गई । उन्होंने शाप देकर... मुझे सुदूर उत्तर-पूरब हिमालय के कछेड़, अनार्य प्रदेश में ‘कौशिकी’ नदी बनाकर भेज दिया ।

’आर्य कुल’ के ‘गाधि कौशिक’ ... मेरे पिता ,बड़े प्रतापी राजा थे और मेरा भाई... ‘विश्वामित्र’ क्रांतिकारी ऋषि । माता-पिता की अचानक मृत्यु होने के पश्चात भाई से मुझे भरपूर प्यार मिला । दुलार से वह मुझे परी बहना कहते थे । उन्होंने मुझे माता-पिता की तरह ना केवल योग्य बनाया अपितु मेरे ख्वाइशों को पूरा किया ।व्यस्क होते ही भाई ने मेरी शादी संस्कारी कहलाने वाले आर्य ऋषि से कर दी । पर, काल के लम्बे हाथ से कोई अछूता कहाँ रहता ! शादी क्या हुई...जैसे मेरी किस्मत में ग्रहण लग गई !


“अरे...बहन तुम रोती क्यों हो ....मैं हूँ ना ...! मुझे जैसे ही पता चला, मैं भागा-भागा तेरे पास आ गया हूँ ।अब यहाँ कोई तेरा बाल बांका नहीं करेगा । भला हुआ जो तुम अपने उस आततायी पति के चंगुल से मुक्त हो गई । उसे आर्यऋषि होने का बहुत घमंड है । मैं प्रण लेता हूँ कि अपने बहनोई, अर्थात् तुम्हारे पति ... महर्षि भृगु के पुत्र ‘रिचिक’ का दंभ तोड़ कर ही चैन की सांस लूँगा । तू चिंता मत कर, अनार्य लोग अज्ञानी जरुर हैं, पर कुटिल नहीं । ये लोग दिल के बहुत भोले होते हैं ।

इन अनार्यों को आर्य के समान मैं शिक्षित करूँगा ,उनको समाज में पूरा सम्मान दिलाऊँगा । तुम्हारे तट पर ही उनकी शिक्षा-दीक्षा संपन्न होगी । तुम्हारे जल से सभी परिमार्जन करेंगे । परित्यक्ता अनार्यों को और तुम्हें भी फिर कोई हेय दृष्टि से कभी नहीं देखेगा । इस धरा पर तुम्हारी पूजा होगी, वेदों ,शास्त्रों में तुम्हारी चर्चा होगी । इस तरह तुम हमेशा के लिए अमर हो जाओगी । “

 

अचानक...भाई की आवाज सुनकर मैं चौंक गई । इस अनार्य प्रदेश में नदी के वेश में मुझे देखकर कौन बहना कहकर पुकार रहा है ? कहीं मेरे मन का भ्रम तो नहीं है ? पीछे मुड़कर देखी, भाई मेरे सामने पर खड़ा था ।


हाँ..वह त्रिकालदर्शी है, इसलिए मुझे इस रूपांतरित वेश में भी पहचान लिया । ख़ुशी से मैं झूम उठी और झट उनके चरणों से जा लिपट गई । उन्होंने मुझे उठाया..हृदय से लगाया, फिर अंजुली में भरकर आचमन किया । तत्पश्चात पितरों का तर्पण करने लगे । मैं मौन एकटक सब देखती रही। मेरे मन से सारे दुःख, क्लेश अब मिट गये ।

 पहले की तरह मैं निडर होकर कल-कल, छल-छल करके फिर से मचलने लगी और पास बहते अपने नये मित्र ‘ब्रह्मपुत्र’ नदी से सारी बातें कहने के लिए उताहुल हो चल पड़ी ।


फिर क्या था ! देखते-देखते ... अनार्य (किरात,मत्स्य,भील, कोच आदि ) जंगली समुदायों को आर्य की भांति सुसभ्य और संस्कारी बनाने का लिया गया प्रण विश्वामित्र द्वारा शुरू हो गया ।

इस तरह कालांतर में जंगली समुदायों द्वारा उत्तर-पुरबी(पूर्णिया) बिहार से ब्रह्मपुत्र तक... ‘कौशिकी-मत्स्य’ संस्कृति खड़ी की गई । बस, उसी समय से मेरा भाई विश्वामित्र, ‘राजर्षि’ से ‘ब्रह्मर्षि’ कहलाने लगे ।

 और मैं,धीरे-धीरे खिसक कर पश्चिम (पुर्णिया-कटिहार ) की ओर बहने लगी । इसी क्रम में मेरी मुलाक़ात ‘गंगा’ नदी से हुई, मैं बहन ‘गंगा’ में समाहित हो गई । पति द्वारा अभिशापित ..आज मैं लोगों द्वारा पूजित हो रही हूँ । सच, मैं यह जीवन पाकर ध्न्य-धन्य हो गई ।


     

 



Rate this content
Log in

More hindi story from minni mishra

Similar hindi story from Abstract