Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Rajit ram Ranjan

Romance


2  

Rajit ram Ranjan

Romance


तुम याद आ गए !

तुम याद आ गए !

1 min 226 1 min 226

मैं कोई धुन गुनगुना रहा था

की तुम याद आ गए!

मैं ये शहर छोड़ के जा रहा था 

की तुम याद आ गए!


मैं तुम्हें भुला रहा था

की तुम याद आ गए!

कल मेरा एक दोस्त,

तकिया सीने से लगा रहा था

की तुम याद आ गए !


रंजन तुम्हारा शहर जिधर है,

उसी तरफ

एक रेल जा रहा था

की तुम याद आ गए !

कल मैं ईद का चाँद देख रहा था

की तुम याद आ गए !


कल सुबह भौरा फूल पे

मंडरा रहा था

की तुम याद आ गए !

बादल ज़ब रिमझिम-रिमझिम

पानी की फुहार गिरा रहा था

की तुम याद आ गए !



Rate this content
Log in

More hindi poem from Rajit ram Ranjan

Similar hindi poem from Romance