Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Arunima Bahadur

Tragedy


4  

Arunima Bahadur

Tragedy


सुरक्षित पर्यावरण

सुरक्षित पर्यावरण

1 min 12 1 min 12

वीभत्स पुकार ये चीत्कार

जन जन में फैला हाहाकार

वायु प्रदूषित जल हैं प्रदूषित

मानव का विचार प्रदूषित

कौन आये कौन समझाए

अरुणिमा को ये समझ न आये

कदम एक बढ़ाऊ मैं

सोई मानवता जगाऊँ मैं

विचारो का प्रदूषण मिटाऊँ मैं

सद्गुणों को उपजाऊ मैं

डगर मुश्किल है मगर

सफल हो जाऊं मैं अगर

मानव जीवन सवर जाएगा

पृकृति का सानिध्य मिल जाएगा

नादानी दुर्बुद्धि से उपजती

सद्बुद्धि से है मिटती

तो सद्बुद्धि सब मे जगा दू मैं

पृकृति को जगमगा दू मैं

आओ मिलकर कदम बढ़ाए

पर्यावरण को सुरक्षित बनाये।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Arunima Bahadur

Similar hindi poem from Tragedy