Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Blogger Akanksha Saxena

Romance


3  

Blogger Akanksha Saxena

Romance


जाँ जिसको था माना मिट गयी वो ग़ैरों पर

जाँ जिसको था माना मिट गयी वो ग़ैरों पर

1 min 402 1 min 402


अब इश्क़ की गलियों में भटका नहीं करते हम 

हम कितने नादाँ थे हम कुछ न समझते थे 

उसकी एक अदा पर हम जान छिड़कते थे

फिर पता चला हमको उनकी उस फितरत का

वो प्यार समझते नहीं न प्यार वो करते हैं

समझ आता है उनको पैसा भाषा पैसे की समझते हैं

उनको है नहीं मालूम कि

अब हुस्न की गलियों में भटका नहीं करते हम

इन मखमली निगाहों में फिसला नहीं करते हम


जाँ जिसको था माना मिट गयी वो ग़ैरों पर

अब रंगीन पहेलियों में उलझा नहीं करते हम

अब इश्क़ की गलियों में भटका नहीं करते हम


दिल होता है प्यासा फिरता है मारा मारा

अपनी इस धड़कन का सौदा नहीं करते हम

अब इश्क़ की गलियों में भटका नहीं करते हम

इस धोखे की चाँदनी में डूबा नहीं करते हम


पीछे है पड़ा मेरे बर्बादी का साया

उसको है नहीं मालूम कि अब बहका नहीं करते हम

अब इश्क़ की गलियों में भटका नहीं करते हम


आज वादों से सजी महफिलें कल गुमनामी की रातें

पलकों का नींद से अब झगड़ा नहीं करते

हम अपने करियर को बर्बाद न करते हम

अब इश्क़ की गलियों में भटका नहीं करते हम



Rate this content
Log in

More hindi poem from Blogger Akanksha Saxena

Similar hindi poem from Romance