Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Vipin Baghel

Tragedy Classics Abstract Inspirational Fantasy


4.8  

Vipin Baghel

Tragedy Classics Abstract Inspirational Fantasy


गरीबी की मार

गरीबी की मार

1 min 51 1 min 51


मैंने उसको दर दर पर ,

गिरते झुकते देखा है।

दो सिक्कों के लिए उसको ,

गिरवीं रखते देखा है।


चाहत है बस दो रोटी की ,

करता सबसे मिन्नत है .

कभी कभी उन रोटी की भी ,

रहती फिर भी किल्लत है।


तन पर कपड़े कम हैं उसके ,

अब मन में ख्वाव हुए कम हैं।

दो मुठ्ठी को हाथ पसारे,

दुबला पतला हुआ बदन है।


जीर्ण शीर्ण है सूरत उसकी ,

हड्डी हड्डी तन को जकड़े |

गठरी एक रखी है सिर पर ,

निकल पड़ा जीवन को पकड़े।


पेट भूख से तड़प रहा है ,

पानी पी पी लोट रहा है।

घोर तिमिर में रह रह कर ,

जीवन अपना काट रहा है।


सुख की बस तस्वीर बनाकर ,

सपनों में रख लेता है।

भोर में उठकर तोड़ सपन को ,

मन ही मन रो लेता है।


निकले सूरज बहुत गगन में ,

पर उस तक एक किरण न आयी।

बड़े बड़े भूखे बाघों ने ,

मिली हुई सब दौलत खायी।


चलता है वो रोज नदी सा ,

पल पल घाट बदलता है .

मिले न दीपक अगर रात में ,

खुद दीपक बन जलता है .


अगर हटा ले कंधे अपने ,

कोई बोझ न सह पायेगा .

झुका अगर ले अपने कर को ,

सकल राष्ट्र फिर झुक जायेगा .


अब उसको हर दो डग पर ,

थकते मैंने देखा है .

मैंने उसको दर दर पर ,

गिरते झुकते देखा है .


बीमार पड़ा है फिर भी उसको , 

बोझ उठाते  देखा है।

थके हार कर , काम किया पर ,

खाली हाथों देखा है।


उसने सबके बना घर दिए ,

पर रोज उजड़ते देखा है।

कभी यहाँ तो कभी वहां पर ,

चलते फिरते देखा है।


सारी उमर कमाई रोटी , 

जरा में भूखा सोता है।

अपनी उजड़ी व्यथा देखकर ,

बाहें भर भर रोता है।


जीवन के अंतिम पड़ाव पर ,

कोई साथ न देता है .

जो भी था वो बेच दिया ,

फिर भी पेट न भरता है . 


कल उसने अपने मालिक से ,

कुछ पैसे उधर लिए |

उन पैसे के बदले उसने ,

देर रात तक काम किया।


सुबह उठा तो उसके अंदर ,

एक अजीब सी जकड़न थी।

गया न फिर वो अपने काम पर ,

अस्थि अस्थि में अकड़न थी।


फिर डरकर वो गया न काम पर ,

निकल गया फिर अलग राह पर।

राह किनारे चलते चलते ,

निकल गया वो अंतिम पढ़ाओ पर।


मरे तो उसकी कोई फ़िक्र न ,

जिए तो कोई न करता है |

एक कफ़न और दो गज में ,

दफ़न न कोई करता है।


राह किनारे पड़े शवों का ,

अंत वहीं हो जाता है।

कभी कभी फिर कोई मानुष ,

क्रिया कर्म करवाता है।


मैंने उसको दर दर पर ,

गिरते झुकते देखा है।

दो सिक्कों के लिए उसको ,

गिरवीं रखते देखा है।










Rate this content
Log in

More hindi poem from Vipin Baghel

Similar hindi poem from Tragedy