Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

Niraj Pandey

Romance


4  

Niraj Pandey

Romance


दिन ढलने लगा है

दिन ढलने लगा है

2 mins 397 2 mins 397

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है 

घड़ी का कांटा टिक टिक करते सांझ की ओर बढ़ने लगा है

तुम्हारे हाथ की चाय को मन मचलने लगा है

ये हल्की हल्की महक है बता रही सेवक पकोड़े भी तलने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है


आओ पास हमारे बैठो इक पहर

काम तुम्हारा तो लगा रहेगा उम्र भर 

वो देखो उस पीले घर के पीछे चांद चुपके से निकलने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है 


यूँ खामोश ना बैठो कुछ बोलो बतियाओ

शाम की मधुर बेला को यूँ ना गँवाओ

देखो कैसे वो कबूतर जोड़ा हरी हरी घास पर टहलने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है 


कभी कुछ बातें गर हमने हो गुस्से में कही

उन बातों को कर के याद न दिल जलाओ पास बैठो

आओ कोई गीत गुनगुनाओ

इन नाजुक से होंठों से गीत कोई सुनने को दिल हमारा मचलने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है 


कैसी ठंडी हवा ये बह रही है कानों में जैसे ये कुछ कह रही है

की इतनी जुदाई ये क्यों सह रही है

तुम्हारे बिन कैसा होता ये जीवन इस कल्पना से भी दिल ये डरने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है 


बैठो हाथों को मेरे जरा थाम लो

अपने मुख से मेरा नाम लो इस हसीन शाम में ये अरमान जगने लगा है

काली बदली से निकलता वो चांद का टुकड़ा तुम्हारी प्रतिमा में बदलने लगा है 

सुनो पंडिताइन दिन ढलने लगा है


Rate this content
Log in

More hindi poem from Niraj Pandey

Similar hindi poem from Romance