Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Dr. Saroj Acharya

Abstract Romance


3  

Dr. Saroj Acharya

Abstract Romance


बादल

बादल

1 min 192 1 min 192


छोटा बादल का टुकड़ा

सफ़ेद

जैसे अभी अभी नहा कर आया

ठंडी हवा की उंगली थाम

खिड़की पर दस्तक देकर

कहता है बाहर आ जाओ

चलें वहां दूर

पहाड़ की ढलान पर

धूप आँख मिचौली खेल रही है,

एक छोटा सा

धूप का टुकड़ा मिला

अपनी चादर बिछा, बोला

बैठो न

मन मेरा और बादल

उस महकती गुनगुनी

धूप की चादर पर बैठे है

बादल ने छुआ

शर्म की ठोड़ी को धीरे से,

और कहा

अकेले न मुस्कुराओ,

उनकी यादों से हमें भी मिलाओ!


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dr. Saroj Acharya

Similar hindi poem from Abstract