Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Manju Singhal

Abstract


4.4  

Manju Singhal

Abstract


ये उन दिनों की बात है

ये उन दिनों की बात है

2 mins 315 2 mins 315

यह उन दिनों की बात है जब टेलीविजन ने भारत के बाजार में दस्तक दे दी थी । टीवी ब्लैक एंड वाइट था साथ में 10 - 12 रोड वाला लंबा सा एंटीना था जिसे घर की पर लगाया जाता था । साहब वह एंटीना ही नहीं था बल्कि स्टेटस सिंबल था । जिस घर की छत पर एंटीना होता था उस घर के लोग माननीय कहलाते थे । तब हम लोगों की गर्मियों की छुट्टियां मेरठ में अपनी मौसी के घर गुजरती थी । मौसी मौसा पैसे वालों में शुमार होते थे । उनकी बड़ी सी सुंदर कोठी थी । मिलनसार इतने थे की सारा मोहल्ला ही उनका अपना था । सभी लोग बहुत प्यार करते थे वह इज्जत देते थे । मौसी बहुत शौकीन थी । लिहाजा मोहल्ले का पहला टीवी उनके घर आया । उस समय टीवी पर केवल दूरदर्शन आता था । बुधवार को चित्रहार और रविवार को फिल्म आती थी । बड़े आकर्षण के विषय थे । पूरी बिल्डिंग और पूरे मोहल्ले ने स्वाभाविक रूप से उस पर अपना हक समझा । तो टीवी देखने आना उनका हक था । शाम से पहले टीवी देखने की तैयारियां शुरू हो जाती थी । 

उन दिनों गैस तो थी नहीं अंगीठी जलती थी । शाम को अंगीठी जलाकर जल्दी-जल्दी रात का खाना बनाकर रखा जाता था ताकि टीवी देखने में रुकावट ना आए । सारे बच्चे मिलकर भाग भाग कर कुर्सियां, मुंडे, स्टूल लाकर कमरे और बाहर बरामदे तक पिक्चर हॉल सा बना देते थे । शाम को दूरदर्शन की धुन बजते ही प्रसन्न मुख हंसते मुस्कुराते चेहरे गेट में आते और अदम्य उत्साह से भरे अपनी-अपनी सीटों पर जम जाते । सामूहिक रूप से प्रोग्राम देखे जाते । ऐड ब्रेक में सभी भागते कुछ खाने को कुछ पानी पीने को कुछ भी करना हो उसके लिए । क्या दृश्य होता था । पिक्चर या प्रोग्राम खत्म होने पर हंसते बोलते अपने-अपने घर जाते हम कुर्सियां स्टूल उठाते पर यह कभी नहीं लगा की यह टीवी सिर्फ हमारा है । सभी के साथ प्रोग्राम देखने में जो आनंद आता था वह आज मल्टीप्लेक्स का महंगा टिकट खरीद कर एसी हॉल में बैठकर पिक्चर देखने में नहीं आता । पर अब वो आनंद कहां ।

 यह उन दिनों की बात है ।



Rate this content
Log in

More hindi story from Manju Singhal

Similar hindi story from Abstract