Vijaykant Verma

Abstract

4  

Vijaykant Verma

Abstract

बड़ा लेखक(चैट-स्टोरी)

बड़ा लेखक(चैट-स्टोरी)

1 min
398


"आप लेखक कब बने?"

"उन्नीस सौ पचहत्तर में।"

"आपको पहचान कब मिली?"

"पहली रचना से।"

"वो कैसे?"

"क्योंकि वो टाइम्स ऑफ इंडिया प्रकाशन की पत्रिका माधुरी में छपी थी और उस रचना का मुझे पारिश्रमिक भी मिला था।"

"मतलब अच्छे लेखन की पहचान रचना पर मिलने वाले पारिश्रमिक से आंकी जाती है?"

"यह ज़रूरी नही है।"

"क्या कोई पुरस्कार भी मिला है आपको?

"हाँ, कुछ पुरस्कार भी मिले हैं।"

"फिर तो आप बड़े लेखक हुए?"

"नही, बड़ा लेखक मैं तब बनुंगा, जब पाठक मेरी रचनाओं को अपने दिल में स्थान देंगे।"


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Abstract