Vijaykant Verma

Abstract


3  

Vijaykant Verma

Abstract


निर्दयता

निर्दयता

1 min 156 1 min 156

सोनू की गर्लफ्रैंड सीमा सोनू से बहुत ज़्यादा नाराज़ थी, क्योकि कल वो उससे मिलने नहीं आ सका था। और आज जब वो सीमा से मिला, तो उसने अपनी आंखें तरेर कर उससे पूछा-"तुम कल क्यों नहीं आये..?"


सोनू-"मम्मी की तबियत ज़्यादा खराब थी, इसलिए नहीं आ सका..!"


सीमा-"मेरी मम्मी की भी कल तबियत बहुत खराब थी। और उन्होंने तो मुझे मना भी किया था घर से निकलने को, फिर भी मैं तुमसे मिलने आई थी..!"


सोनू-"ठीक है, पर आज के बाद फिर कभी मुझसे मिलने की कोशिश न करना..! क्योंकि जो लड़की अपनी मां की भी बात न माने, और उसके बीमार होने पर उसकी देखभाल और सेवा न करे, वो शादी के बाद मेरे मां बाप की क्या सेवा करेगी..?"अच्छा हुआ, जो तुम्हारी इस निर्दयता का पता शादी से पहले ही मुझे पता चल गया, वरना मेरा तो भविष्य बरबाद होता ही, साथ में मेरा पूरा परिवार भी बिखर जाता..!

मैं जा रहा हूँ तुम्हें छोड़ कर..! हमेशा, हमेशा के लिये..!!"


Rate this content
Log in

More hindi story from Vijaykant Verma

Similar hindi story from Abstract