Vijaykant Verma

Abstract


3  

Vijaykant Verma

Abstract


खेल की राजनीति

खेल की राजनीति

2 mins 186 2 mins 186

खेलना इंसान के स्वभाव में होता है। बचपन में गुल्ली डंडा गेंद तड़ी और न जाने कौन कौन से खेल हम खेलते हैं। लेकिन बड़े होने पर खेलों में सबसे जानदार और मजेदार खेल है राजनीति का खेल..! इस खेल के नियम बड़े अजब-गजब होते हैं। कभी नाव गाड़ी पर और कभी गाड़ी नाव पर, यह मुहावरा इस खेल में बिल्कुल फिट बैठता है..!

क्योंकि राजनीति में एक दल जो दूसरे दल का दुश्मन होता है, कुर्सी की आस में अगले पल ही उसका दोस्त बन जाता है। राजनीति के इस खेल में कट्टर से कट्टर दुश्मन भी कब एक दूसरे के गले लग जाएंगे, कुछ कहा नहीं जा सकता .! और कब उनका ये गठबंधन टूट जाए और इनकी आपस की दोस्ती, हवा-हवाई हो गया, इसके बारे में भी कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती..!!

लेकिन एक बार खेल जगत की दुनिया में भी इस तरह का अद्भुत करिश्मा देखने को मिला..! पाकिस्तान में अक्सर ऐसा सुनने में आता है, कि वहां के क्रिकेट प्रेमी किसी भी मैच में भारत की जीत पर अपना टीवी सेट तक तोड़ देते हैं।

लेकिन 2019 के एक मैच ऐसा भी हुआ, जब पाकिस्तान के क्रिकेट प्रेमी इस बात की दुआ कर रहे थे भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाले मैच में भारत जीते और इंग्लैंड हार जाए ..! क्योंकि उस समय विश्व कप में विभिन्न देशों के द्वारा प्राप्त किए गए अंको की गणित कुछ इस प्रकार थी, कि पाकिस्तान सेमीफाइनल में तभी पहुंच सकता था, जब भारत इंग्लैंड को हरा दे..!

इस संदर्भ में मज़ेदार बात ये भी है, कि पूर्व पाकिस्तानी तेज़ गेंदबाज शोएब अख्तर ने पाकिस्तानी समर्थकों से खुल्लमखुल्ला ये अपील की थी, कि वो चाहते हैं कि पूरा पाकिस्तान भारत का समर्थन करे..! अगर यही अपील किसी और अवसर पर वो करते, तो शायद पाकिस्तान में शोएब अख्तर मुर्दाबाद, शोएब अख्तर गद्दार है.. के नारे लगने लगते और पूरे पाकिस्तान में भयंकर तोड़फोड़ मच जाती..!

पर हाय रे पाकिस्तान की किस्मत..! जब पिछले मैच में भारत से हुए मुकाबले में वो जीतना चाहते थे, तब भी उनकी दुआ कबूल नही हुई, और जब भारत को वो जिताना चाहते थे, तब भी उनकी दुआ कबूल नहीं हुई..! क्योकिं ये अति महत्वपूर्ण मैच भारत इंग्लैंड से 31 रनों से हार गया था..!!

इस मुकाबले के बाद पाकिस्तान के हर नागरिक के जुबान पर एक ही बात थी~"उफ्फ, ख़ुदा इतना बेरहम कैसे हो गया..!!"



Rate this content
Log in

More hindi story from Vijaykant Verma

Similar hindi story from Abstract