Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Praveen Gola

Romance

3  

Praveen Gola

Romance

यूँ ही मर जायेगा

यूँ ही मर जायेगा

1 min
43


यूँ ही मर जायेगा अपना प्यार एक दिन ,

याद रह जायेगी ये साँस गिन - गिन ,

जब दिल ने चाहा तुझे भेजा संदेश मेरे यारा ,

तूने आके हर बार दिया मुझे फिर सहारा , 

तेरे आने से ये उम्र बढ़ी मेरी हर दिन ,

यूँ ही मर जायेगा अपना प्यार एक दिन |

कब मिले ये नयन पता ही ना चला ,

दिलों से दिलों का मिलन अच्छा ही लगा ,

कभी कहे अपने दिल ~ए ~अल्फाज़ ,

कभी पढ़े तेरे दिल ~ए ~ ज़जबात ,

घुले फिर तुझमे बिन कहे ये धड़कने गिन ,

यूँ ही मर जायेगा अपना प्यार एक दिन |

जब जी चाहे बुला लेना हमें अंखियाँ मूंदे ,

छू के फिर चख लेना अपने इश्क की गिरी बूँदें ,

थोड़ा हँस के तब देना हमें बेवफ़ा का खिताब ,

जो ना दे सकी तेरे हर सवाल का ज़वाब ,

और चली गई दूर तुझसे कुछ कहे बिन

,यूँ ही मर जायेगा अपना प्यार एक दिन ||



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance