Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

sonu santosh bhatt

Tragedy Inspirational Others


4.5  

sonu santosh bhatt

Tragedy Inspirational Others


वह अभागिन अमर हो गयी।

वह अभागिन अमर हो गयी।

1 min 169 1 min 169

वह अभागिन अमर हो गई है

तिरछी उसकी कमर हो गई है।

वह अभागिन अमर हो गई है।

नि:संतान वह बुढ़िया, न कुछ काम करती है,

कैसे कमाती कैसे खाती, न ही वो आराम करती है,

न कोई देखने वाला न कोई जानने वाला

कोई नहीं है उसको अपना मानने वाला

कैसा उसका भाग्य निराला

कोई नहीं पा पहचानने वाला

वह यही कहती थी।

यही सोचते रहती थी

आखिर कब मौत द्वार उसके आएगी

कब निराशाजनक शाम आखिरी बार उसके आयेगी

वह मौत के इंतजार में अमर हो गई

तिरछी उसकी कमर हो गई

कोई न कोई बीमारी उसे हमेशा घेर रखती हे

दवाइयों का वह अलग-अलग ढेर रखती है

क्या खाये क्या पीये

वह चाहती ही नहीं और जीये

क्या करे वो मौत उसे आती नहीं है

हर दर्द की दवा पास मगर कभी वो खाती नहीं है

मौत का इंतजार करते करते, पेट बिना खाए भरते भरते

तिरछी उसकी कमर हो गई है,

वह अभागिन अमर हो गयी है।

कुछ राज छिपाए बैठी थी,

जिनका अब खुलासा होने लगा है,

उसका वक़्त अब, किसी और मैं जागकर

खुद उसमें सोने लगा है।

उलझनों का खत्म होकर शुरू नई सफर हो गयी है।

वह अभागिन अमर हो गयी है।



Rate this content
Log in

More hindi poem from sonu santosh bhatt

Similar hindi poem from Tragedy