Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

शशि कांत श्रीवास्तव

Romance


4  

शशि कांत श्रीवास्तव

Romance


मीत मेरे

मीत मेरे

1 min 385 1 min 385

आओ प्रिये, 

चलो..,चलें कहीं दूर --प्रिये 

जी लें कुछ पल जीवन के, 

सुकून से , 

जहाँ ना हो कोई बंधन और 

ना हो कोई आपा धापी, 

बस केवल हों हम और तुम , 

आओ प्रिये चलो...., चलें |

दूर गगन के उस पार चलें 

जहाँ पर मिलते साँझ तले, 

धरती और आकाश -प्रिये

आओ, चलें कहीं दूर -प्रिये, 

जी लें कुछ पल जीवन के |

अब तक जो जीवन जीया हमने, 

बच्चों और रिश्तों की खातिर, 

अब आ गया समय वह --कि 

अब तो जी लें इस जीवन को 

अपनी खुशियों की खातिर, 

इस जीवन का पता नहीं 

कब किसकी नैया पार लगेगी, 

कौन रहेगा इस पार -प्रिये 

तन्हा और एकांत लिए, 

आओ, चलें कहीं दूर -प्रिये , 

जी लें कुछ पल जीवन के!



Rate this content
Log in

More hindi poem from शशि कांत श्रीवास्तव

Similar hindi poem from Romance