Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

शशि कांत श्रीवास्तव

Inspirational


4  

शशि कांत श्रीवास्तव

Inspirational


"ऐसी है यह -मेरी माँ "

"ऐसी है यह -मेरी माँ "

1 min 205 1 min 205

ममता की मूरत लगती है

करती सदा फिक्र बच्चों की

चाहे कितना भी कष्ट आये -पर

रहती सदा मुस्कुराती हरदम

ऐसी है यह –मेरी माँ


भोर भये उठ जाती है -वह

देर रात तक जगती है

कभी नहीं थकती है -वह

त्यौहारों के आते ही -वह

करती साफ-सफाई घर की

नये नये पकवान बनाती


खुद खाती-औरों को भी खिलाती

विपदा आने पर बच्चों को -वह

भूख प्यास सब भूल भाल कर

सारी रात जगा करती है


बच्चों की खुशियों में ढूंढे

अपनी खोई हुई खुशी

देखकर माँ के चेहरे को

लगता है मिल गई खुशी -उन्हें

ऐसी है यह –मेरी माँ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from शशि कांत श्रीवास्तव

Similar hindi poem from Inspirational