Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published
Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published

Charu Sharma

Inspirational


4.7  

Charu Sharma

Inspirational


मैं

मैं

3 mins 745 3 mins 745

मैं कौन हूँ मेरी पहचान क्या

मेरा वजूद क्या मेरा जहाँन क्या

जब पहले पहल दुनिया में आई

सबकी नजरो में अपने लिए प्यार और ख़ुशी पाई

कोई मुझे दुलारता कोई मुझे पुचकारता

गोद में लेकर हर कोई मुझे घंटों झुलाता

किसी के लिए परी थी मैं किसी के लिए अप्सरा

किसी का सपना थी मै किसी की जीने की वजह


बचपन बीता और में यौवन की दहलीज़ पर आ खड़ी हुई

वक़्त बदल रहा था उमंगे जवान हो रही थी

मै बचपन की स्मृतियों को लिए आगे बढ़ रही थी

अचानक बढ़ते कदम रुक गए थे

सभी अपने बेगाने लगने लग गए थे

जो बचपन में परी कहते थे अब घूर कर देखने लगे थे

हर छुअन बदल गयी थी हर अहसास बदल गया था

बाहरवालों की तो छोड़ो घरवालों का नजरिया बदल गया था

अब मै एक खूबसूरत शरीर में तब्दील हो चुकी थी

जिस पर हर जाने अनजाने की नीयत डोलने लग गयी थी

अब हर वक़्त कानो में एक ही जुमला गूंजता था

"जवान हो गयी है लड़की....कुछ सोचा है "


अब मै ना बेटी थी ना परी थी ना किसी की जान थी

बस यही पहचान रह गयी थी मेरी कि अब मै "जवान" थी

मुझे अकेले घर से निकलने कि मनाही थी

अजनबियों से बात करने पर पाबन्दी थी

अब हर वक़्त मेरी हर हरकत पर एक नजरबंदी थी

मुझे भी अपने साए से डर लगने लग गया था

दुनिया का चेहरा भयानक लगने लग गया था

सब उमंगे सारे सपने चूर होने लग गए थे

किसे जिम्मेदार मानू इस सब का, सभी तो एक सा कह रहे थे

सपने धूमिल हो रहे थे मनोबल कमजोर हो रहा था

आँखों के नीचे भी काला घेरा पड़ने लगा था


जहाँ एक तरफ मेरा यौवन ढल रहा था

वहीँ दूसरी तरफ मेरे घरवालों का मेरी शादी पर जोर बढ़ रहा था

जैसे तैसे घरवालों ने मुझे शादी करके घर से निकाल दिया

जैसे मै उनका हिस्सा ना होकर कोई बोझ थी जिसे बस उन्होंने टाल दिया

पति को मुझ से ज्यादा पसंद मेरे साथ लाया सामान था

वो भी औरों कि तरह मेरे मन कि खूबसूरती से अनजान था

मोसम बदल रहे थे वक़्त गुजर रहा था

जहाँ एक ओर मेरे होटों कि चुप्पी गहरा रही थी

वही दूसरी ओर दुनियावालों का होसला बढ़ रहा था


फिर यूँही अचानक वक़्त ने करवट ली और मेरी झोली खुशियों से भर दी

उस खुशी का सबब एक नयी जिन्दगी थी

वो मेरी नन्ही बेटी के जीवन कि शुरुआत थी

मेरी बेटी का जन्म मेरे जीवन में आशा कि नयी किरण की तरह था

उसका वजूद मेरी घुटन और खामोश जिन्दगी में एक मरहम की तरह था

वक़्त के साथ मेरी बेटी अपनी जिन्दगी का सफ़र तय करती जा रही थी

बचपन, लड़कपन को पीछे छोड़ जवानी कि तरफ कदम बढ़ा रही थी


अचानक एक बार फिर मेरी खुशियों और सोच पर कुठाराघात हुआ

मेरी बेटी के बढ़ते क़दमों पर घिनौनी पाबंदियों का आगाज़ हुआ

यह देख मेरा मन तिलमिला उठा और अपनी चुप्पी को तोड़ कर बाहर आ खड़ा हुआ

जो अँधेरा मुझे निगल गया था वही मेरी बच्ची के भविष्य की ओर बढ़ रहा था

लेकिन अब मेरे विद्रोह के ज्वालामुखी का लावा उस पर पड़ रहा था

दुनिया मेरे इस नए रूप को देख कर हैरान थी

शायद मै भी अपने इस वजूद से अब तक अनजान थी

मेरे विद्रोह का असर ज़माने पर दिखने लग गया था

मेरी बेटी को आगे बढ़ने के लिए खुला आसमान मिल गया था


आज सोचती हूँ अगर औरत अपनी "मैं " को कमजोर ना समझती होती

तो शायद किसी कवि को यह कविता लिखने की जरूरत ना होती

'कि'

"औरत तेरी यही कहानी, आँचल में है दूध और आँखों में पानी" ..........


Rate this content
Log in

More hindi poem from Charu Sharma

Similar hindi poem from Inspirational