Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Nancy Sundrani

Fantasy Inspirational Children


4.5  

Nancy Sundrani

Fantasy Inspirational Children


दोस्त कँहा गुम हो गये

दोस्त कँहा गुम हो गये

1 min 381 1 min 381

न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये

जो बचपन में खेला करता था

जो गली में बैठा करता था

जो मेरी चॉकलेट को खा जाया करता था

न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये


न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये

जिसको साथ स्कूल जाया करता था

जिसके साथ बाजार जाया करता था

जिसके साथ गोल गप्पा खाया करता था

न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये


न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये

जिसको हर बात बताया करता था

जिसके साथ दोस्ती का वादा किया करता था

जिसके साथ जिन्दगी जिया करता था

न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये

न जाने वो दोस्त कहाँ गुम हो गये।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Nancy Sundrani

Similar hindi poem from Fantasy