Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Nalanda Wankhede

Tragedy


4  

Nalanda Wankhede

Tragedy


बेरोजगारी

बेरोजगारी

1 min 309 1 min 309

रोजगार मुक्त भारत मे फैली यह कौन सी बीमारी है 

काम नहीं है हाथो को कैसी यह लाचारी है 


उच्च शिक्षा प्राप्त करके भी दर-दर भटक रहा है भारत  

संक्रमण फैला घर घर में छूआछूत सहचारी है


चरस गांजे के नशे मे धुत मस्ती मे झूम रहा है जवान 

शिकार अवसाद का युवा भारत का ,माँग रहा रोजगार है


देश की बात मन में करना राजनीति की है मजबुरी 

बेशुमार बेरोजगारी बढ़ना युवाओं से खिलवाड़ है 


काम नहीं रोजगार नहीं छटनी की टंगती है तलवार 

बेरोजगारी मे पिसता युवा भारत का व्यथा से हलाकान है


राजा बनकर बैठे मंत्री तरकश मे सोये हैं बाण 

तिलिस्म मे उलझकर सारी समस्याए देखो सब दरकिनार है


शहर क्या देश की गलियाँ विषाद से भर गयी

सियासतो के सब्जबाग मे भविष्य युवाओं का बर्बाद है


वक्त रहते संभल जाओ रंगीन ख्वाब बेचना बंद करो

उतर आये सडकों पर तो आज का युवा 'नालंदा ' महाकाल है!




Rate this content
Log in

More hindi poem from Nalanda Wankhede

Similar hindi poem from Tragedy