Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Indu Barot

Classics


3  

Indu Barot

Classics


बचपन

बचपन

1 min 159 1 min 159

सफ़ेद काग़ज़ सा ही तो होता है बचपन,

निष्कपट और हर जगह अपनापन 

जिसमें नित नये रंग हम भरते हैं।


आड़ी टेडी रेखायें खींचकर नित नये शब्द हम गढते हैं।

ना कुछ पाने की आशा होती ना कुछ खोने का होता डर ,

हर क्षण बनाते सपनों के नये नये घर।


सींच कर अपने बचपन को जब हम बड़े होते हैं।

क्यों हर इच्छा ज़िम्मेदारी को बेमन से ढोते हैं।


कोमल बचपन नहीं समझता जीवन को तब उलझन है।

जीवन की इस आपाधापी में फिर कैसे ढूँढते खुद का ही बचपन है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Indu Barot

Similar hindi poem from Classics