Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

आँखें

आँखें

1 min 379 1 min 379

आँखें तुम्हारी खुदा की

नैमत है तुमको

देखा करो तुम

इनसे हमी को


कुछ दोस्त है

कुछ दुश्मन भी है इनके

नज़र न लग जाये

किसी दुश्मन की इनको


इश्क़ करना इनसे

खुदा की इबादत सा

प्रकृति के श्रंगार सा

मौन हो जाये जब


इन जादुई

आँखों का तिलिस्म

उसी पल में खुदाया

न ज़िंदा रखना तू मुझको।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Amit Kumar

Similar hindi poem from Romance