Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आँखें
आँखें
★★★★★

© Arpan Kumar

Fantasy Romance

2 Minutes   13.6K    9


Content Ranking

 

आँखें हैं कि पानी से
भरी दो परातें
जिनमें उनींदी तो
कुछ अस्त व्यस्त सी
चाँदनी
तैरती है चुपचाप
पीठ तो कभी
पेट के बल,
सतह पर तो
कभी सतह के नीचे,
कदंब की एक टहनी
हटाकर जिनमें
कोई दीवाना चाँद
डूबा रहता है
देर तक

आँचल फैलाए दूर तक
और बैठी हुई
बड़ी ही तसल्ली से
रात्रि
जिनकी कोरों में
काजल लगाती है,
जिनकी चमक से
सबेरा
अपना उजास लेता है,
जिनके पर्दों
पर टिककर
ओस अपने आकार
ग्रहण करते हैं,
रात की रानी
झुककर जिनपर
अपनी सुगंध
लुटाती है

ये वही परात हैं
जिनकी स्नेह लगी
सतह पर
रात्रि अपना
नशा गूँथती है,
ये वही परात हैं,
दुनिया के सारे
सूरजमुखी
बड़े अदब से
दिन भर
जिनके आगे
झुके रहते हैं
और साँझ होते ही
दुनिया के सारे भँवरे
जिनकी गिरफ़्त में
आने को
मचलने लगते हैं
......

कल-कल करते
झरने का
सौंदर्य है इनमें
छल-छल छलकते
जल से
भरी हैं ये परात,
ये परात
दुनिया की
सबसे खूबसूरत
और ज़िंदगी से
मचलती हुई परात हैं
ये परात हैं तो मैं हूँ
कुछ देखने की
मेरी लालसा है

मेरी महबूबा की पलकें,
इन परातों के
झीने और
पारदर्शी पर्दे हैं
जब वह अपनी
पलकें
उठाती है,
परात का पूरा पानी
मेरी चेतना पर आ
धमकता है
मैं लबालब हो
उठता हूँ
पोर पोर
मेरा पूरा देहात्म
चमक उठता है
जिसकी प्रगल्भ
तरलता में

सोचता हूँ,
क्या है ऐसा
इन दो परातों में
कि दुनिया की
सारी नदियों का पानी
आकर जमा हो गया है
इनमें ही
कि पूरे पानी में
बताशे की मिठास घुली है
और बूँद बूँद में जिसकी
रच बस गई है
केवड़े की खुशबू.

आँखें

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..