Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Arpan Kumar

Abstract


3  

Arpan Kumar

Abstract


तलाश

तलाश

1 min 140 1 min 140

शहर की

अनन्त दीवारों के पीछे

ऐसी ही किसी गली में

(भटक रहा हूँ

जिसमें मैं इस समय)


नदी

बह रही होगी

अपने वेग से

पालन करती

अपनी दिनचर्या का

निष्ठापूर्वक


अनजान

मेरी किसी तृष्णा से

जब सारी गलियाँ

एक सी है

तो फिर

इतनी गलियाँ क्यों हैं


शहर में

कि कोई चाहे तो

नहीं ढूँढ़ सकता

एक नदी

लाख कोशिशों के बाद भी।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Arpan Kumar

Similar hindi poem from Abstract