Aarti Ayachit

Abstract Inspirational


4  

Aarti Ayachit

Abstract Inspirational


यथार्थ

यथार्थ

1 min 261 1 min 261

सुरूची ! आज फिर क्या हाल बना रखा है सखी ? 

क्या करूं नेहा घर और नौकरी दोनों ही जगह मुझे अपनी सेवाएं देना जरूरी भी तो था न ?

इसका मतलब यह कतई नहीं! स्वयं के लिए वक्त ही न निकाल पाओ।वह भी बहुत जरूरी है न ?

बचपन से अभी तक घर में बुजुर्गों का और नौकरी में अधिकारियों का आज्ञापालन ही तो करती रही मैं ! मध्यावधि में स्वास्थ्य साथ निभाने में कमजोर पड़ने से नौकरी से हाथ धोना पड़ा।

मुझे पता है तू कविताएं लिखती थी!इस शौक को स्वयं की खुशी हेतु रंगीन-आकार दे !"सुनो सबकी करो अपने मन की"कहावत को यथार्थ कर।


Rate this content
Log in

More hindi story from Aarti Ayachit

Similar hindi story from Abstract