Aarti Ayachit

Tragedy


3.0  

Aarti Ayachit

Tragedy


लाल रंग में फर्क कैसा?

लाल रंग में फर्क कैसा?

1 min 131 1 min 131

शहीद की पत्नी :"सासु मां शहीद बेटे के खून से लथपथ-तिरंगा निशानी समझ दिल से लगा कर रखा! जबकि खून का रंग तो लाल है। मुझे और बेटी को मासिक धर्म के समय क्यों छुआछूत करवाती हो? जबकि उस खून का ऱंग भी तो लाल ही है न?"


सासु मां:"बेटी सामाजिक धर्म भी निभाना है न मुझे?"


शहीद की पत्नी:"तो तुम्हारे ऐसे खोखले समाज को ठोकर मारती हूं!धिक्कार है आपके और ऐसे नारी के जीवन जीने पर जहां रंगों में भी फर्क किया जाता है।मेरे लिए तो उनकी चाहत का रंग ही मायने रखता है जिंदगी को संवारने में।"


Rate this content
Log in

More hindi story from Aarti Ayachit

Similar hindi story from Tragedy