वसीयतनामा

वसीयतनामा

1 min 293 1 min 293

आज शाम तक मां को अस्पताल में भर्ती करना ही पड़ेगा ताकि समय पर मां का इलाज शुरू करवाया जा सके। कितना कहा मां को मेरे साथ शहर में चलकर रहने को लेकिन गांव के मकान से बाबूजी की जुड़ी यादें और छोटे के प्रति लगाव के आगे मेरी एक ना चली। 

सोचते-सोचते बड़े भईया भी सुबह-सुबह शहर से गांव पहुंच चुके थे ताकि छोटे को अकेले भागदौड़ ना करनी पड़े।

भईया ने कहा, "अरे, छोटे जब से आया हूं देख रहा हूं तू कुछ ढूंढे जा रहा है।"

"अरे वो मां का डॉक्टर का पर्चा और रिपोर्ट नही मिल रही", छोटे ने जवाब दिया। 

"जरूरी कागज़ात तो तुझे सम्भाल के रखने चाहिए छोटे।"

"भईया, जरूरी कागज़ात तो मैंने पहले ही दिन तिजोरी में सहेज कर रख दिए थे, बस मां का पर्चा और रिपोर्ट ही ना जाने कहाँ रख दी मैंने।"

भईया को याद आया कि छोटे के लिए तो जरूरी कागज़ात बाबूजी जी की वसीयत ही हो सकती है जो उसने मिलते ही अपनी तिजोरी में रख दी थी।


Rate this content
Log in

More hindi story from Swati Roy

Similar hindi story from Abstract