Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Kamini sajal Soni

Abstract


4.5  

Kamini sajal Soni

Abstract


नई डगर

नई डगर

3 mins 158 3 mins 158

शाम का समय था पंछी अपने घर वापस लौट रहे थे ठंडी ठंडी मस्त पवन बालों को सहला रही थी कितना खुशनुमा माहौल था पर दिल में तो जैसे विचारों के बवंडर तूफान उठा रहे थे।

आज की घटना ने मेरे दिल को दहला दिया था रह-रहकर वह बेबस और मासूम आंखें बार-बार दिल में बेचैनी पैदा कर रही थी।

कितनी खूबसूरत थी आशा इसकी कजरारी आंखें एक बार जो देख ले नजर भर के तो उसका दीवाना हो जाए। सांवली सलोनी तीखे नैन नक्श वाली सर्वगुण संपन्न....... बहू बन कर आई थी मेरे सामने वाले घर में।

उसको देख कर सदैव मन में यही विचार उठता क्या मजबूरी रही होगी आशा के माता-पिता की जो उन्होंने इतनी खूबसूरत सर्वगुण संपन्न लड़की का विवाह एक शराबी के साथ कर दिया। और वह शराबी आशा की कद्र ना कर सका आए दिन शराब पीकर आशा को मारता पीटता एवं गाली गलौज करता बेचारी सहमी सी एक कोने में दुबक कर बैठी रहती। 

पर आज तो उस शराबी ने हद ही कर दी एक तेजधार चाकू लेकर आशा के पीछे ही पड़ गया उसको जान से मारने के लिए और बेचारी हर घर से मदद के लिए गुहार लगा रही थी । जब मैंने अपनी आंखों से यह दृश्य देखा तो अपने आप को रोक ना सकी और तुरंत पुलिस का नंबर डायल करके पुलिस को बुलाया थोड़ी ही देर में पुलिसकर्मियों ने आकर रंगे हाथों आशा के शराबी पति को गिरफ्तार कर लिया।

पर आज तो जैसे तैसे आशा की रक्षा हो गई पर कभी फिर उसने यह हरकत की तो आशा का क्या होगा??? यह विचार बार-बार दिल को बेचैन कर रहे थे ... उस मासूम की क्या गलती थी पता नहीं किस बात की सजा भुगत रही थी माता-पिता ने भी ब्याह कर अपना पल्ला झाड़ लिया था।

अचानक मन में एक आशा की किरण जागी मेरी सहेली अनुपमा एक महिला विकास केंद्र में कार्य करती थी बस क्या था आनन-फानन में उसको नंबर लगाया सारी बातें उससे कह सुनाई उसने भी आशा की जिंदगी संवारने का आश्वासन दिया और अगले दिन वह चार पांच महिलाओं को लेकर आशा के घर आई। आशा के मुख से सारी आपबीती सुनने के पश्चात वह आशा को अपने साथ ले गई एवं उसको जिंदगी की नई डगर पर चलने के लिए और मजबूर औरतों के साथ शामिल कर लिया आशा भी अपनी नई डगर पर चल पड़ी नई उम्मीदों के साथ।

दोस्तों हमारे आसपास न जाने ऐसी कितनी मजबूर आशा...... रहती हैं लेकिन परिवार की बदनामी ना हो इस कारण सब चुपचाप सहती रहती हैं। हमें ऐसी मजबूर महिलाओं को सहारा देकर उनकी जिंदगी में नए रंग भरने की कोशिश एक बार जरूर करना चाहिए। पता नहीं हमारे एक प्रयास से किसकी जिंदगी संवर जाए।


Rate this content
Log in

More hindi story from Kamini sajal Soni

Similar hindi story from Abstract