Aarti Ayachit

Abstract


4.0  

Aarti Ayachit

Abstract


नारी-सम्मान

नारी-सम्मान

1 min 12.2K 1 min 12.2K

पोती के जन्म पर उदास हुई

पड़ोसन से बुजुर्ग दादी बोली !


अफसोस क्यों करती हो ?

नारी के बिना सृष्टि की

कल्पना असंभव है,


अनुभव कहता है !

नारी परिवार की वह धुरी है,

जो अपने प्रेम-स्नेह,


करुणामई-भावनाओं से बचपन

से लेकर बुढ़ापे तक परिवार को

जोड़ती है ! अब तो करें

हर क्षेत्र में नारी-सम्मान।


Rate this content
Log in

More hindi story from Aarti Ayachit

Similar hindi story from Abstract