Nandita Srivastava

Abstract


2  

Nandita Srivastava

Abstract


मन मचल मचल जाता है

मन मचल मचल जाता है

1 min 127 1 min 127

आज कुछ शरारत करने को दिल कर रहा है चलिये कुछ शरारती बातें हो जाये सबसे पहला सवाल आप लोग कैसे है आशा क्या पूरा विश्वास है कि आप सब सुरक्षित और स्वस्थ होगें आज मन करता होगा कि कुछ चाट खाया जाये.या वह बगल वाली दुकान में कुछ मोमोज खाया जाये साथ में मयोनीज और लाल वाली चटनी,बस.आँखों को बंद करके सोचिये खा रहे हैं आंनद आया ना ,साथ में ठंडी ठडी कोल्डड्रिंक मजा आया कि नहीं.और आगे चलते है छोले भटूरे अगर पेट में जगह हो तो खा लें मजा आ जायेगा.बाकी चीजें कल खायी जायेगी अरे अरे परेशान हो अपना मोबाइल खंगाल डालिये सब चीजे मिल जायेगी .और घर में बैठकर भी खायी जा सकती है .बाहर ना निकलिय्गा पुलिस वाले बहुत जोर दार डंडा मार रहे है हाँ अगर काम है तो पास के निकलें वरना घर में बैठकर संगीत सुनते हुये जीवन का आंनद लें बस शिव से मनाये यह संकट कट जाये हमारे राष्ट्र से ही नही पुरी दुनिया से .हमारा मन कर रहा था आप लोगो से शरारत करने का हमने कर लिया.कल किसी और घटना पर बातचीत होगीं .चलिये आज बस यहीं तक

जय हिंद।


Rate this content
Log in

More hindi story from Nandita Srivastava

Similar hindi story from Abstract