Nandita Srivastava

Drama


2  

Nandita Srivastava

Drama


मजदूर

मजदूर

1 min 121 1 min 121

आज मजदूर दिवस की शुभकामनायें आज की कहानी मजगूरों की जबानी।

मैं राम दीन बात पर धुडकी खाने वाला मजदूर ,रोटी री आश लगाता मजगूर ,बस हर दिन नये आशा के लिये जीने वाला मजदूर बस संयम को लेकर जीने वाला मददूर हर गम को पीने वाला मजदूर करोना के लाँक डाउन की वजह से कुछ कर नहीं पाये यह तो बुरा लग रहा पर उनको याद तो कर ही सकते है।

उनको सलाम तो कर ही सकते हैजी हाँ उनके हौसले को सलाम तो कर ही सकते है जो हमारी देश की नींव है,जो वाकई में ईमानदारी से जीता है कितनी मेहनत करता है बस दो जून की रोटी कमाने के लिये मेहनक करता है पसीना बहाता है। और सब टीक हो जायेगा की आशा में मर जाता है कितना मेहनती है यह कौम।

इनकी बदन से मेहनत की खूशबू से महकता है और चेहरा इमान की रोटी से चमकता है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Nandita Srivastava

Similar hindi story from Drama