Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Himanshu Sharma

Abstract


3  

Himanshu Sharma

Abstract


देश की आबो-हवा

देश की आबो-हवा

1 min 176 1 min 176

सबकी ज़िन्दगी अब यूँही चलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


सियासत अब हर चीज़ में घुलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


ग़रीबी जेब से झाँकने को मचलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


वर्दी में भी रवादारी यूँही ढ़लने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


देख मुल्क़, क़यामत आँख मलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


हर चीज़ है बिकाऊ, बात ये सलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


नफ़रत हर बात पे, दिलों में पलने लगी है,

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


जमी थी खूँरेंज़ी, बर्फ़ वहाँ पिघलने लगी है, 

मेरे देश की आबो-हवा बदलने लगी है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Himanshu Sharma

Similar hindi story from Abstract