Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Kusum Lakhera

Action Inspirational


4  

Kusum Lakhera

Action Inspirational


यशोदा नन्दन कान्हा 💐

यशोदा नन्दन कान्हा 💐

1 min 236 1 min 236

कितने रूप 

कितने नाम

सभी अद्भुत

सभी मनोरम

बचपन में कान्हा कहलाए


माँ को तुम बहुत सताए

श्याम तुम्हीं घनश्याम तुम

और साँवरे तुम कहलाए

गाए के पालक और रक्षक

गोपालक तुम


आकर्षित करते सबको

तभी तुम कृष्ण कहलाए 

मुर दैत्य को मार गिराया

ओर मुरारी नाम को पाया 

दामोदर तब कहलाए 


जब यशोदा ने गुस्से में 

तुम्हें पेड़ से बांधा

नटखट नटवर माखन चोर

नाम भी पाया 


ब्रज में तुमने रास रचाया

मोहन रूप से मोह जगाया 

हरि रूप में दुःख को हरते

हृषिकेश भी कहलाए


गिरि को धारण तुम करते

नाम तुम गिरिधारी पाए

बाँसुरी को बजाते 

मुरलीधर तुम कहलाते

चक्र को हाथ में धरते

चक्रधर नाम को पाते 


पीले वस्त्र को धारण

करके 

पीताम्बर आप कहलाते

नन्दलाल के तुम बालक

यशोमति के दुलारे 


देवकी वसुदेव के पुत्र तुम

देवकीनंदन कहलाते

गोविंद तुम नारायण तुम 

नाथ तुम योगिराज तुम

तुम मार्गदर्शक

तुम पथप्रदर्शक


तुम सखा तुम उपदेशक 

तुम कर्म के पुजारी 

तुम सारथी तुम शिक्षक

है कृष्ण तुम्हें नमन है 


 कुसुम की ओर से

आप सभी को जन्माष्टमी की

हार्दिक शुभकामनाएँ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Kusum Lakhera

Similar hindi poem from Action