Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Drama


1.3  

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Drama


सावन पर दोहे

सावन पर दोहे

1 min 8.5K 1 min 8.5K

मोहक सावन कर रहा, बरखा की बौछार !

भूलो सारी नफरतें, दिल में भर लो प्यार !!


सावन का मौसम सदा, होता बड़ा हसीन !

लगती है इस मास में, कुदरत भी रंगीन !!


सावन में आते यहां, कितने ही त्योहार !

झूमें सब नर नारियां, सजता है संसार !!


भाईचारा सब रखो, सावन दे संदेश !

कितना फिर सुंदर लगे, मेरा भारत देश !!


मिलजुल कर सारे रहो, मत करना तकरार !

सावन में होती सदा, खुशियों की भरमार !!


जीवन जो हमको मिला, ईश्वर की सौगात !

आया सावन मास है, लिए मधुर हर बात !!


मनवा जाए डोलता, नाचे हर इंसान !

सावन में कांवर करे, भोले का गुणगान !!





Rate this content
Log in

More hindi poem from धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Similar hindi poem from Drama