Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.
Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.

Garima Kanskar

Drama


4  

Garima Kanskar

Drama


पर्यावरण बचाओ

पर्यावरण बचाओ

1 min 185 1 min 185

आज हम जिस कगार पर खड़े हैं

जहाँ हम अपनो को खोते जा रहे हैं

और उनके लिए कुछ न कर पाने की

बेबसी का बोझ अपने कंधों पर ढो रहे हैं


इसके जिम्मेदार हम स्वयं हैं

हमने अपने स्वार्थ के लिये

कई पेड़ काटे है

कई फैक्टरियाँ लगवाईं हैं


गाड़ी में सफर किया

बिना गाड़ी के एक डग भी नहीं चलते

प्रदूषण इतना बढाया

सिर्फ अपनी परवाह की

कभी पर्यावरण का ख्याल नहीं रखा


धर्म ये कभी नहीम भूलना चाहिए

कि हम प्रकृति को जो देंगे

प्रकृति वही हमें देगी

अभी भी वक्क्त है

पर्यावरण का ख्याल रखे।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Garima Kanskar

Similar hindi poem from Drama