Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Lakshman Jha

Romance

3  

Lakshman Jha

Romance

" मिलन"

" मिलन"

1 min
33


कई बार सोचा कि कुछ,

नई-नई बातें तुम से कहूँ !

पर तुम्हारे सामने आकर,

सोचता हूँ कहूँ तो कैसे कहूँ ??

जो बातें कहने को रहती हैं,

तुम्हें देखकर भूल जाता हूँ !

तुम्हारे रूप के सौंदर्य को,

देख कहीं और खो जाता हूँ !!


विरह के क्षण में हमारी,

विरह रचना बनने लगती है !

तुम्हारी मिलन की बेला में,

शृंगारिक अनुभूति होती है !!

उनकी बातें भी अधरों तक,

अधूरे रह के आधे रह गए !

प्यार के दीपक के जलने से,

मौसम सावन सुहाने हो गए !!



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance