Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Dr.Purnima Rai

Tragedy


4  

Dr.Purnima Rai

Tragedy


मानव मन

मानव मन

1 min 159 1 min 159

कत्ल-ए-आम देखकर दहलता है मन 

जाने कब होगा हैवानियत का दमन,

नित हुआ बालाओं का चीर हरण 

देखकर रुसवाई आंखें हुई नमन,

 महका हुआ आंगन उजड़ गया चमन

 कहने मात्र ही रही बेटियां कंचन,

 सर्वत्र दुर्गंध बिखेर रही पवन

 मुर्दा जिस्म के सीने में होती है जलन,

 धर्म पूजा-पाठ निष्फल हुए हवन

 चिंतन छोड़कर हुआ आत्मा का हनन,

 प्रतिक्षण दिखते हैं नए-नए संस्करण

 हर रूप में हुई महज इंसानियत नग्न,

 सुनकर हाहाकार मन करता क्रंदन 

एक दिन बदलेगा "पूर्णिमा" मानव मन!


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dr.Purnima Rai

Similar hindi poem from Tragedy