Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

Chandresh Kumar Chhatlani

Tragedy


4  

Chandresh Kumar Chhatlani

Tragedy


गाँव की व्यथा

गाँव की व्यथा

1 min 209 1 min 209

वो था हरा भरा ईश्वर की प्रकृति के प्रभाव से

न कुछ कहता, मैं चुप ही रहता, अपने स्वभाव से


मुझसे किसी को दुःख देने की कोशिश हो - नहीं नहीं

मेरे दिल में रमी हुई कोई साजिश हो - नहीं नहीं

नाम की नहीं - शिक्षा कर्म की पाई - अपने ही गाँव से


बढने की कोशिश करें तो कोई पीछे खींचे - उफ़ दुनिया

मीठे पानी से प्यासी धरती को कैसे सींचे - उफ़ दुनिया

बन गया गाँव मेरा - ऊँची इमारतों का अड्डा - जुए के दांव से



Rate this content
Log in

More hindi poem from Chandresh Kumar Chhatlani

Similar hindi poem from Tragedy