Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Aditya Srivastav

Classics


4  

Aditya Srivastav

Classics


एहसास-ए-दिल

एहसास-ए-दिल

1 min 195 1 min 195

कब तक सुनता रहूँ मैं उनकी

होते जो अक़्सर साथ मेरे !


कब तक मैं उनका दिल रखूँ

खुद मेरा दिल भी पास मेरे !


दिल मेरा शहद का प्याला हाँ

कड़वे हैं पर अल्फाज़ मेरे!


कब तक मैं उनका दिल रखूँ

खुद मेरा दिल भी पास मेरे !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Aditya Srivastav

Similar hindi poem from Classics