Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
वक़्त जिसे कहते हैं
वक़्त जिसे कहते हैं
★★★★★

© Arpan Kumar

Abstract Others Inspirational

2 Minutes   13.8K    6


Content Ranking

वक़्त 

जो एक ही मिट्टी से
हमें गढ़ता है
नाना रूपों और आकारों में
वक़्त
जो कुम्हारों का कुम्हार है
वक़्त
जो थपकी देता दुलार है

वक़्त हमें गाँठता है
ज्यों गांठे कोई मोची
किसी फटे हुए जूते को
जो हमारे तलवे के
उठने से पहले
ख़ुद ही बिछ जाता हो
वक़्त एक ऐसी लंबी चादर है

देखो जो अगर
वक़्त है एक लुहार
जिसकी भट्ठी कभी
ठंडी नहीं होती
जो स्वयं तपे
और हमें भी तपाए
यूँ किसी लायक
हमको बनाता जाए
गह गह कर जो गहे
वक़्त तो ऐसा परिष्कार है

वक़्त
जो दुनिया का
सबसे बड़ा कारीगर है
वही वक़्त है बेरहम ऐसा
जो कुछ भी
नया नहीं रहने देता
जो पलों में पाहुने को
पुराना कर जाता है
वक़्त हर खेल का जितवार है

वक़्त है
ज्यों हो कोई
सदाबहार बादल
जिसकी बरसात में
सबकुछ धुलता चला जाता है
मिट्टी का माधो
मिट्टी में मिल जाता है
नामचीनों की भारी हस्ती
धनवानों की ढेरों मस्ती
ग़रीबों की हौसलापरस्ती
ज़िंदगी महँगी और सस्ती
सब बह जाए जिसमें
वक़्त वह तीक्ष्ण धार है

वक़्त है
ज्यों हो कोई
सधा औघड़
जिसकी झोली में
यादों के कई चकमक रहते हैं
भरमाते तो कभी हमें चौंकाते हैं
वक़्त
जो रह-रहकर
अपनी झोली
पलटता जाता है
हमें अंदर-बाहर
भरता जाता है
विपर्यय से भरे जीवन में
वक़्त
नित्य एक विचार है

वक़्त
जिसकी मुट्ठी से
हम सभी फिसलते
चले जाते हैं
मगर जिसकी मुट्ठी
आज तक
ख़ुद कभी ख़ाली नहीं हुई
वक़्त वह अकूत भंडार है।

कोई पूछे तो सही भला यह वक़्त क्या है! कोई बताए तो सही कि इसकी तपिश क्या है!

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..