Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शिकायत
शिकायत
★★★★★

© Mohanjeet Kukreja

Romance

1 Minutes   267    41


Content Ranking

कोई सफ़ाई पर्याप्त नहीं

बहाने, दलीलें रहने दो…

अपनी किसी मजबूरी का

तुम आज वास्ता ना दो,


रोने से कुछ नहीं होगा-

तुम बस एक काम करो,

मेरे ख़त मेरे प्यार समेत...

शहर के चौराहे पे टाँग दो,


ताकि कोई ना किसी को…

ख़त लिखने का जुर्म करे;

और ना किसी को किसी से

भूले से भी फिर प्यार हो…!

शहर खत प्यार

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..